• 26, Raoji Bajar
    Juni Indore Indore - 452007

Mppsc Notes

Mppsc Notes

Best Coaching Classes online study materials are one of the most simple and easy-to-learn notes on any subject. That’s the reason why we are equally loved by school students just like IAS exam toppers.

Key Features:
  • Comprehensive coverage of theory in theory books focusing on UPSC Pre exam.
  • Supplemented with examples to sotddify the learned theory concepts.
  • In-theory ‘Note’ column has been incorporated for extra emphasis on important and unthought concepts.
  • Conclusion of each chapter with a summary for quick revision.
  • Solved Objective Brain Teaser set at the end of each chapter to boost the level of preparation.
  • Each chapter has Student’s Assignment to accoutre aspirants with a good level of questions and prepare them for the neck to neck competition.
  • The study material includes All Subject of UPSC and Latest Current Affair
  • To help aspirants score well in General Studies Section this package contains
  • General Studies textbook with practice questions
  • Current Affairs Annual Edition Magazine
  • Package includes previous years’ solved question papers of UPSC.
  • A practice book containing MCQs is also included in this package for thorough preparation.



  • इस अध्ययन सामग्री के लाभ
    यह अध्ययन सामग्री मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग के पाठ्यक्रम को ध्यान में रखकर तैयार की गई है।
    जैसा कि आप जानते हैं हमारा ध्येय इस कार्यक्रम के माध्यम से हर उस अभ्यर्थी को लाभ प्रदान करना है, जो किसी विवशता के कारण कोचिंग कक्षाएँ ज्वॉइन करने में असमर्थ है, लेकिन सिविल सेवक बनने का सपना संजोए हुए है।
    इस सामग्री के निर्माण में केवल आधिकारिक और विश्वसनीय तथ्यों एवं आँकड़ों का ही उपयोग किया गया है।
    इस अध्ययन सामग्री को सहज और सरल भाषा में तैयार किया गया है जो समझने में बेहद आसान है और लंबे समय तक याद रखी जा सकती है।
    इस सामग्री में प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा दोनों के पाठ्यक्रम को शामिल किया गया है।
    परीक्षा से कुछ समय पूर्व रिवीज़न करने हेतु क्विक रिवीज़न पॉइंट शामिल किये गए हैं।
    प्रत्येक अध्याय के अंत में उस खंड से विगत 17 वर्षों के दौरान पूछे गए प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्नों (उत्तर सहित) एवं विगत 4 वर्षों में आए मुख्य परीक्षा के प्रश्नों का समावेश किया गया है।
    हमारे पास पेशेवर प्रबंधन के साथ ही प्रत्येक विषय के लिये प्रतिभावान और अनुभवी कंटेंट लेखकों की टीम है, जो पूरी लगन के साथ आपके लिये गुणवत्तापूर्ण अध्ययन सामग्री तैयार करती है।

    About Mppsc

    Click on the buttons inside for know more about Mppsc

    Description

    State Service Exam is conducted for recruitment to various posts in government departments and offices of the state of Madhya Pradesh. This exam is conducted in two stages namely the preliminary exam and the main exam. Following the IAS exam pattern aspirants who clear the prelim exam are allowed to appear for the main exam. The number of candidates admitted to appear for the main exam is fifteen times more than the number of available vacancies. However the best candidates who clear the main exam and the following procedure are admitted to various posts in respective government department. The Madhya Pradesh Public Service Commission was constituted in 1956. One of the major functions of MPPSC is recruitment of suitable candidates to the State Services by Direct Selection, Promotions, or Transfers.For the direct selection process, the commission conducts State Service Examination. For details about the eligibility, examination pattern, and optional subjects check the respective links. The Commission is also consulted on all disciplinary matters affecting a person serving under Government of India or the Government of a State in a civil capacity.
    Contact Address Madhya Pradesh Public Service Commission Residency Area, Indore (MP) 452 001 Telephone : (0731) 2701624, 2701983.

    .

    What is the Eligibility Criteria for MPPSC Exam

    The Madhya Pradesh Public Service Commission (MPPSC) is a body created by the Constitution of India to select applicants for civil service jobs in the Indian state of Madhya Pradesh according to the merits of the applicants and the rules of reservation. MPPSC conducted examination selection to various posts as per the requisitions of the appointing authorities, conduct written test and practical tests, physical efficiency test and interview.

    MPPSC EXAM Eligibility Criteria:-

    To apply for MPPSC exam, Candidate must have graduate degree in any stream from recognised university. Age of candidate should be between 21 years to 35 years. Upper age limit relaxed by 5 years for SC/ST , Relaxtion of 3 years for Other backward category candidates and 10 years relaxation for Physically Handicapped or Widow candidates. Attempts for General candidates is 5. Unlimited number of attempts who belongs to SC/ST. For Other Backward Caste attampts is 7. This Exam Consists of Three Stages-

    1.  Preliminary Exam, 2. Main Exam, 3. Interview

    Services

    List of Service

    MPPSC conducts State Service Examination (Annual Combined Competitive Exams) for recruitment to the following services:

    • State Civil Service (Deputy Collector)
    • State Police Service (Dy. Superintendent of Police)
    • State Accounts Service
    • Sales Tax Officer
    • District Excise Officer
    • Assistant Registrar Cooperative Societies
    • District Organiser, Tribal Welfare
    • Labour Officer
    • District Registrar
    • Employment Officer
    • Area Organiser
    • Block Development Officer
    • Assistant Director Food/Food Officer
    • Project Officer, Social/ Rural Intensive Literacy Project
    • Subordinate Civil Service (Naib Tahsildar)
    • Assistant Superintendent Land Records
    • Sales Tax Inspector
    • Excise Sub-Inspector
    • Transport Sub-Inspector
    • Co-operative Inspector
    • Assistant Labour Officer
    • Assistant Jailor
    • Sub-Registrar
    • Assistant Director Public Relation
    • Principal, Panchayat Secretary of the Training Institute
    • District Women Child Development Officer
    • Chief Instructor (Anganwadi)
    • Assistant Director
    • Superintendent (Intuitions)
    • Project Officer (Integrated Child Development Project)
    • Assistant Project Officer (Special Nutrition Programme)
    • Area Organizer (M.D.M.)
    • District’ Commandant Home Guard
    • Assistant Director Local Fund Audit
    • Additional Assistant Development Commissioner

    Exam Pattern

    Madhya Pradesh Public Service Commission MPPSC

    State Service Exam is conducted for recruitment to various posts in government departments and offices of the state of Madhya Pradesh. This exam is conducted in two stages namely the preliminary exam and the main exam. Following the IAS exam pattern aspirants who clear the prelim exam are allowed to appear for the main exam. The number of candidates admitted to appear for the main exam is fifteen times more than the number of available vacancies. However the best candidates who clear the main exam and the following procedure are admitted to various posts in respective government department.
    Name of the Paper No. of Questions Duration Given Marks.
    Paper I: General Studies. 100 2 Hours. 200
    Paper II: Aptitude. 100 2 Hours. 200
    Total Marks.     400

    Note: The marks which are secured in the prelims are only for qualifying the Mains Examination. It is not counted to determine the order of merit. The Qualifying marksfor Paper II: Aptitude is 33%. But the candidates will be promoted to the Mains only based on the Qualifying marks in Paper I: General Studies.



    Eligibility for MPPSC State Service Preliminary Exam :


    Age Limit:

    Candidates aged between 21 and 40 years of age are eligible to apply for MPPSC State Service Preliminary Exam 2015.
     
    Age Relaxation is applicable as per government rules.
     

    Educational Qualification:

    Graduation in any discipline or equivalent qualification from a recognized university incorporated by an Act of the Central or State Legislature in India.

    MPPSC Mains Exam Pattern

    The Mains Examination is a written Examination. It consists of 6 Papers which are namely Paper I to Paper VI which are based on Ranking. The Questions will be available in Hindi as well as English in the Question Papers.

    S.No. Name of the Paper. Name of the Subject. Hours Marks. Medium
    1. Paper-I General studies-I 3 Hours 300 Hindi & English
    2. Paper-II General studies-II 3 Hours 300 Hindi & English
    3. Paper-III General studies-III 3 Hours 300 Hindi & English
    4. Paper-IV General studies-IV 3 Hours 200 Hindi & English
    5. Paper-V General Hindi 3 Hours 200 Hindi
    6. Paper-VI Essay Writing 2 Hours 100 Hindi & English
    Sub-Total.   1400    
    Interview.   175  
    Total. 1575  

    The Final Ranking of the candidates: This is done based on the marks obtained in the Mains and the Interview.

    Exam Fee

    1- A candidate seeking admission to the Preliminary Examination must pay to the Commission, a fee as decided by the State Government.
    2- Payment shall be made through Cross Bank Draft issued by any scheduled Bank. The Draft shall be prepared in favor of the Secretary, Madhya Pradesh Public Service Commission, Indore and payable at Indore.
    3- It may be noted that fee sent through Money Order, Cheque, Postal Order or any other mode of payment shall not be accepted by the Commission and such application will be treated as without fee and will be summarily rejected.
    4-The candidates admitted to the Main Examination will be required to pay a further fee as decided by the State Government.
    5-Fees once paid whether for the Preliminary Examination or for the Main Examination shall not be refunded under any circumstances nor can the fee be held in reserve for any other Examination or Selection.

    Student Queries

    How to clear MPPSC Exam

    Generally it is said that mppsc pre exam is very simple really it is simple if you follow the pattern of the exam with right strategy, but the cutoff is always very high for mppsc pre exam result.That means for general category students 85 questions must be correct out of 100 to be in a safe zone. You have to make a stratefy for MPPSC preparation study for atleast 4 to 5 hours if you are newcomer, first pre pare for the polity and Bare acts (sc-st prevention act, civil rights act etc).Then General knowledge of madhya pradesh like (dams,rivers,national parks, sanctuaries, folk songs, historical places, tribes,political scenario, sports, Culture, sports awards, fairs in mp, Vojana of mp govt.), read about indian economy and current affairs related to madhya pradesh, india. Pratiyogita darpan, news papers, last year exam papers study all don't let any thing PSC exam.




    How many attempts are allowed for MPPSC

    Candidates of General Category can give MPPSC any number of times till the age of 40 years old (for general). For SC/ST there is further relaxation of age.


    How To Clear MPPSC Exam and Become a PSC Officer

    Madhya Pradesh Public Service Commission MPPSC State Service Exam is conducted for recruitment to various posts in government departments and offices of the state of Madhya Pradesh. This exam is conducted in two stages namely the preliminary exam and the main exam. Following the IAS exam pattern aspirants who clear the prelim exam are allowed to appear for the main exam. The number of candidates admitted to appear for the main exam is fifteen times more than the number of available vacancies. However the best candidates who clear the main exam and the following procedure are admitted to various posts in respective government department.


    To got the selection in MPPSC & become the PSC officer candidate need to clear the mains exam and third phase that is interview.

    The State Government of Madhya Pradesh conduct’s the Madhya Pradesh Public Service Commission (MPPSC) Exam.Popularly known as MPPCS Exam. The MPPCS Exam consists of two papers. First is the General Studies and the Second is the General Aptitude Test. The MPPCS Prelims Examination is a screening examination, and it is conducted to reduce the number of the candidates which can appear in the MPPCS Main Exam.

    सिविल सेवा परीक्षा

    सिविल सेवा परीक्षा : एक परिचय
    संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी), जो भारत का एक संवैधानिक निकाय है, भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) और भारतीय पुलिस सेवा (IPS) जैसी अखिल भारतीय सेवाओं तथा भारतीय विदेश सेवा (IFS), भारतीय राजस्व सेवा (IRS), भारतीय रेलवे यातायात सेवा (IRTS) एवं भारतीय कंपनी कानून सेवा (ICLS) आदि जैसी प्रतिष्ठित सेवाओं हेतु अभ्यर्थियों का चयन करने के लिये प्रत्येक वर्ष सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है। प्रत्येक वर्ष लाखों अभ्यर्थी अपना भाग्य आज़माने के लिये इस परीक्षा में बैठते हैं। तथापि, उनमें से चंद अभ्यर्थियों को ही “राष्ट्र के वास्तुकार” (Architect of Nation) की संज्ञा से विभूषित इन प्रतिष्ठित पदों तक पहुँचने का सौभाग्य प्राप्त होता है। ‘सिविल सेवा परीक्षा’ मुख्यत: तीन चरणों (प्रारंभिक, मुख्य एवं साक्षात्कार) में सम्पन्न की जाती है जिनका सामान्य परिचय इस प्रकार है-

    प्रारंभिक परीक्षा:
    o सिविल सेवा परीक्षा का प्रथम चरण प्रारंभिक परीक्षा कहलाता है। इसकी प्रकृति पूरी तरह वस्तुनिष्ठ (बहुविकल्पीय) होती है, जिसके अंतर्गत प्रत्येक प्रश्न के लिये दिये गए चार संभावित विकल्पों (a, b, c और d) में से एक सही विकल्प का चयन करना होता है।
    प्रश्न से सम्बंधित आपके चयनित विकल्प को आयोग द्वारा दी गई ओएमआर सीट में प्रश्न के सम्मुख दिये गए संबंधित गोले (सर्किल) में उचित स्थान पर काले बॉल पॉइंट पेन से भरना होता है।
    सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 200 अंकों की होती है।
    वर्तमान में प्रारंभिक परीक्षा में दो प्रश्नपत्र शामिल हैं। पहला प्रश्नपत्र ‘सामान्य अध्ययन’ (100 प्रश्न, 200 अंक) का है, जबकि दूसरे को ‘सिविल सेवा अभिवृत्ति परीक्षा’ (Civil Services Aptitude Test) या ‘सीसैट’ (80 प्रश्न, 200 अंक) का होता है और यह क्वालीफाइंग पेपर के रूप में है। सीसैटप्रश्नपत्र में 33% अंक प्राप्त करने आवश्यक हैं।
    दोनों प्रश्नपत्रों में ‘निगेटिव मार्किंग की व्यवस्था लागू है जिसके तहत 3 उत्तर गलत होने पर 1 सही उत्तर के बराबर अंक काट लिये जाते हैं।
    प्रारंभिक परीक्षा में कट-ऑफ का निर्धारण सिर्फ प्रथम प्रश्नपत्र यानी सामान्य अध्ययन के आधार पर किया जाता है।

    मुख्य परीक्षा:
    सिविल सेवा परीक्षा का दूसरा चरण ‘मुख्य परीक्षा’ कहलाता है।
    प्रारंभिक परीक्षा का उद्देश्य सिर्फ इतना है कि सभी उम्मीदवारों में से कुछ गंभीर व योग्य उम्मीदवारों को चुन लिया जाए तथा वास्तविक परीक्षा उन चुने हुए उम्मीदवारों के बीच आयोजित कराई जाए।
    प्रारंभिक परीक्षा में सफल होने वाले उम्मीदवारों को सामान्यतः अक्तूबर-नवंबर माह के दौरान मुख्य परीक्षा देने के लिये आमंत्रित किया जाता है।
    मुख्य परीक्षा कुल 1750 अंकों की है जिसमें 1000 अंक सामान्य अध्ययन के लिये (250-250 अंकों के 4 प्रश्नपत्र), 500 अंक एक वैकल्पिक विषय के लिये (250-250 अंकों के 2 प्रश्नपत्र) तथा 250 अंक निबंध के लिये निर्धारित हैं।
    मुख्य परीक्षा में ‘क्वालिफाइंग’ प्रकृति के दोनों प्रश्नपत्रों (अंग्रेज़ी एवं हिंदी या संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल कोई भाषा) के लिये 300-300 अंक निर्धारित हैं, जिनमें न्यूनतम अर्हता अंक 25% (75 अंक) निर्धारित किये गए हैं। इन प्रश्नपत्रों के अंक योग्यता निर्धारण में नहीं जोड़े जाते हैं।
    मुख्य परीक्षा के प्रश्नपत्र अंग्रेज़ी और हिंदी दोनों भाषाओं में साथ-साथ प्रकाशित किये जाते हैं, हालाँकि उम्मीदवारों को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल 22 भाषाओं में से किसी में भी उत्तर देने की छूट होती है (केवल साहित्य के विषयों में यह छूट है कि उम्मीदवार उसी भाषा की लिपि में उत्तर लिखे है, चाहे उसका माध्यम वह भाषा न हो)।
    गौरतलब है कि जहाँ प्रारंभिक परीक्षा पूरी तरह वस्तुनिष्ठ (Objective) होती है, वहीं मुख्य परीक्षा में अलग-अलग शब्द सीमा वाले वर्णनात्मक (Descriptive) या व्यक्तिनिष्ठ (Subjective) प्रश्न पूछे जाते हैं। इन प्रश्नों में विभिन्न विकल्पों में से उत्तर चुनना नहीं होता बल्कि अपने शब्दों में लिखना होता है। यही कारण है कि मुख्य परीक्षा में सफल होने के लिये अच्छी लेखन शैली बहुत महत्त्वपूर्ण मानी जाती है।

    साक्षात्कार:
    सिविल सेवा परीक्षा का अंतिम एवं महत्त्वपूर्ण चरण साक्षात्कार (Interview) कहलाता है।
    मुख्य परीक्षा मे चयनित अभ्यर्थियों को सामान्यत: अप्रैल- मई माह में आयोग के समक्ष साक्षात्कार के लिये उपस्थित होना होता है।
    इसमें न तो प्रारंभिक परीक्षा की तरह सही उत्तर के लिये विकल्प दिये जाते हैं और न ही मुख्य परीक्षा के कुछ प्रश्नपत्रों की तरह अपनी सुविधा से प्रश्नों के चयन की सुविधा होती है। हर प्रश्न का उत्तर देना अनिवार्य होता है और हर उत्तर पर आपसे प्रतिप्रश्न भी पूछे जा सकते हैं। हर गलत या हल्का उत्तर ‘नैगेटिव मार्किंग’ जैसा नुकसान करता है और इससे भी मुश्किल बात यह कि परीक्षा के पहले दो चरणों के विपरीत इसके लिये कोई निश्चित पाठ्यक्रम भी नहीं है। दुनिया में जो भी प्रश्न सोचा जा सकता है, वह इसके पाठ्यक्रम का हिस्सा है। दरअसल, यह परीक्षा अपनी प्रकृति में ही ऐसी है कि उम्मीदवार का बेचैन होना स्वाभाविक है।
    यूपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा में इंटरव्यू के लिये कुल 275 अंक निर्धारित किये गए हैं। मुख्य परीक्षा के अंकों (1750 अंक) की तुलना में इस चरण के लिये निर्धारित अंक कम अवश्य हैं लेकिन अंतिम चयन एवं पद निर्धारण में इन अंकों का विशेष योगदान होता है।
    इंटरव्यू के दौरान अभ्यर्थियों के व्यक्तित्व का परीक्षण किया जाता है, जिसमें आयोग में निर्धारित स्थान पर इंटरव्यू बोर्ड के सदस्यों द्वारा मौखिक प्रश्न पूछे जाते हैं, जिनका उत्तर अभ्यर्थी को मौखिक रूप से ही देना होता है। यह प्रक्रिया अभ्यर्थियों की संख्या के अनुसार सामान्यत: 40-50 दिनों तक चलती है।
    मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार में प्राप्त किये गए अंकों के योग के आधार पर अंतिम रूप से मेधा सूची (मेरिट लिस्ट) तैयार की जाती है।
    इस चरण के लिये चयनित सभी अभ्यर्थियों का इंटरव्यू समाप्त होने के सामान्यत: एक सप्ताह पश्चात् अन्तिम रूप से चयनित अभ्यर्थियों की सूची जारी की जाती है।

    संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा का प्रारूप इस प्रकार है –
    सिविल सेवा परीक्षा का प्रारूप
    परीक्षा परीक्षा आयोजन का माह (सामान्यत:) विषय कुल अंक
    *1 प्रारंभिक जून सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र I & II प्रश्नपत्र I – 200 प्रश्नपत्र II – 200
    मुख्य अक्तूबर –नवंबर (प्रश्नपत्र –I)
    (प्रश्नपत्र –II)
    (प्रश्नपत्र –III)
    (प्रश्नपत्र –IV)
    (प्रश्नपत्र –I)
    (प्रश्नपत्र –II)
    निबंध लेखन
    250
    250
    250
    250
    250
    250
    250
    *2 अनिवार्य : अंग्रेज़ी
    *3 अनिवार्य : भारतीय भाषा
    300
    300
    साक्षात्कार मार्च-अप्रैल व्यक्तित्व परीक्षण 275
    नोट: *1 प्रारंभिक परीक्षा में प्राप्त किये गये अंकों को मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार के अंकों के साथ नहीं जोड़ा जाता है। *2,*3 अनिवार्य अंग्रेज़ी एवं भारतीय भाषा में प्राप्त किये गए अंकों को भी मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार के अंकों (1750+275=2025) के साथ नहीं जोड़ा जाता है। उम्मीदवार का अंतिम चयन मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार में प्राप्त किये गये अंकों के योग के आधार पर होता है।

    सिविल सेवा ही क्यों ?

    आखिर हम सिविल सेवक के रूप में अपना कॅरियर क्यों चुनना चाहते हैं- क्या सिर्फ देश सेवा के लिये? वो तो अन्य रूपों में भी की जा सकती है। या फिर सिर्फ पैसों के लिये? लेकिन इससे अधिक वेतन तो अन्य नौकरियों एवं व्यवसायों में मिल सकता है। फिर ऐसी क्या वजह है कि सिविल सेवा हमें इतना आकर्षित करती है? आइये, अब हम आपको सिविल सेवा की कुछ खूबियों से अवगत कराते हैं जो इसे आकर्षण का केंद्र बनाती हैं।

    यदि हम एक सिविल सेवक बनना चाहते हैं तो स्वाभाविक है कि हम ये भी जानें कि एक सिविल सेवक बनकर हम क्या-क्या कर सकते हैं? इस परीक्षा को पास करके हम किन-किन पदों पर नियुक्त होते हैं? हमारे पास क्या अधिकार होंगे? हमें किन चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा? इसमें हमारी भूमिका क्या और कितनी परिवर्तनशील होगी इत्यादि।
    अगर शासन व्यवस्था के स्तर पर देखें तो कार्यपालिका के महत्त्वपूर्ण दायित्वों का निर्वहन सिविल सेवकों के माध्यम से ही होता है। वस्तुतः औपनिवेशिक काल से ही सिविल सेवा को इस्पाती ढाँचे के रूप में देखा जाता रहा है। हालाँकि, स्वतंत्रता प्राप्ति के लगभग 70 साल पूरे होने को हैं, तथापि इसकी महत्ता ज्यों की त्यों बनी हुई है, लेकिन इसमें कुछ संरचनात्मक बदलाव अवश्य आए हैं।
    पहले, जहाँ यह नियंत्रक की भूमिका में थी, वहीं अब इसकी भूमिका कल्याणकारी राज्य के अभिकर्ता (Procurator) के रूप में तब्दील हो गई है, जिसके मूल में देश और व्यक्ति का विकास निहित है।
    आज सिविल सेवकों के पास कार्य करने की व्यापक शक्तियाँ हैं, जिस कारण कई बार उनकी आलोचना भी की जाती है। लेकिन, यदि इस शक्ति का सही से इस्तेमाल किया जाए तो वह देश की दशा और दिशा दोनों बदल सकता है। यही वजह है कि बड़े बदलाव या कुछ अच्छा कर गुज़रने की चाह रखने वाले युवा इस नौकरी की ओर आकर्षित होते हैं और इस बड़ी भूमिका में खुद को शामिल करने के लिये सिविल सेवा परीक्षा में सम्मिलित होते हैं।
    यह एकमात्र ऐसी परीक्षा है जिसमें सफल होने के बाद विभिन्न क्षेत्रों में प्रशासन के उच्च पदों पर आसीन होने और नीति-निर्माण में प्रभावी भूमिका निभाने का मौका मिलता है।
    इसमें केवल आकर्षक वेतन, पद की सुरक्षा, कार्य क्षेत्र का वैविध्य और अन्य तमाम प्रकार की सुविधाएँ ही नहीं मिलती हैं बल्कि देश के प्रशासन में शीर्ष पर पहुँचने के अवसर के साथ-साथ उच्च सामाजिक प्रतिष्ठा भी मिलती है।
    हमें आए दिन ऐसे आईएएस, आईपीएस अधिकारियों के बारे में पढ़ने-सुनने को मिलता है, जिन्होंने अपने ज़िले या किसी अन्य क्षेत्र में कमाल का काम किया हो। इस कमाल के पीछे उनकी व्यक्तिगत मेहनत तो होती ही है, साथ ही इसमें बड़ा योगदान इस सेवा की प्रकृति का भी है जो उन्हें ढेर सारे विकल्प और उन विकल्पों पर सफलतापूर्वक कार्य करने का अवसर प्रदान करती है।
    नीति-निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने के कारण ही सिविल सेवक नीतिगत सुधारों को मूर्त रूप प्रदान कर पाते हैं।
    ऐसे अनेक सिविल सेवक हैं जिनके कार्य हमारे लिये प्रेरणास्रोत के समान हैं। जैसे- एक आईएएस अधिकारी एस.आर. शंकरण जीवनभर बंधुआ मज़दूरी के खिलाफ लड़ते रहे तथा उन्हीं के प्रयासों से “बंधुआ श्रम व्यवस्था (उन्मूलन) अधिनियम,1976” जैसा कानून बना। इसी तरह बी.डी. शर्मा जैसे आईएएस अधिकारी ने पूरी संवेदनशीलता के साथ नक्सलवाद की समस्या को सुलझाने का प्रयास किया तथा आदिवासी इलाकों में सफलतापूर्वक कई गतिशील योजनाओं को संचालित कर खासे लोकप्रिय हुए। इसी तरह, अनिल बोर्डिया जैसे आईएएस अधिकारी ने शिक्षा के क्षेत्र में महत्त्वपूर्ण काम किया। ऐसे अनेक उदाहरण हैं जिनमें इस सेवा के अंतर्गत ही अनेक महान कार्य करने के अवसर प्राप्त हुए, जिसके कारण यह सेवा अभ्यर्थियों को काफी आकर्षित करती है।
    स्थायित्व, सम्मान एवं कार्य करने की व्यापक, अनुकूल एवं मनोचित दशाओं इत्यादि का बेहतर मंच उपलब्ध कराने के कारण ये सेवाएँ अभ्यर्थियों एवं समाज के बीच सदैव प्राथमिकता एवं प्रतिष्ठा की विषयवस्तु रही हैं।
    कुल मिलाकर, सिविल सेवा में जाने के बाद हमारे पास आगे बढ़ने और देश को आगे बढ़ाने के अनेक अवसर होते हैं। सबसे बढ़कर हम एक साथ कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, प्रबंधन जैसे विभिन्न क्षेत्रों के विकास में योगदान कर सकते हैं जो किसी अन्य सार्वजनिक क्षेत्र में शायद ही सम्भव है।
    सिविल सेवकों के पास ऐसी अनेक संस्थागत शक्तियाँ होती हैं जिनका उपयोग करके वे किसी भी क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन ला सकते हैं। यही वजह है कि अलग-अलग क्षेत्रों में सफल लोग भी इस सेवा के प्रति आकर्षित होते हैं।
    सिविल सेवा परीक्षा के अंतर्गत शामिल प्रत्येक सेवा की प्रकृति और चुनौतियाँ भिन्न-भिन्न हैं। इसलिये आगे हम प्रमुख सिविल सेवाओं के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे, जैसे- उनमें कार्य करने का कितना स्कोप है, प्रोन्नति की क्या व्यवस्था है, हम किस पद तक पहुँच सकते हैं आदि, ताकि अपने ‘कॅरियर’ के प्रति हमारी दृष्टि और भी स्पष्ट हो सके।

    सिविल सेवा परीक्षा के विषय में मिथकों ?
    हम सभी ने सिविल सेवा परीक्षा (सामान्य रूप में आईएएस परीक्षा के नाम से प्रचलित) की तैयारी को लेकर प्रायः कई मिथकों को सुना है। इनमें से कई कथन इस परीक्षा की तैयारी शुरू करने वाले अभ्यर्थियों को भयभीत करते हैं तो कई अनुभवी अभ्यर्थियों को भी व्याकुल कर देते हैं। निम्नलिखित प्रश्नों के माध्यम से हमारा प्रयास यह है कि अभ्यर्थियों को इन मिथकों से दूर रखते हुए उनका ध्यान परीक्षा पर केन्द्रित करने को प्रेरित किया जाए।

    प्रश्न-1: कुछ लोग कहते हैं कि सिविल सेवा परीक्षा सभी परीक्षाओं में सर्वाधिक कठिन परीक्षा है, क्या यह सत्य है?
    उत्तर: जी नहीं, यह पूर्णत: सही नहीं है। सिविल सेवा परीक्षा भी अन्य परीक्षाओं की ही तरह एक परीक्षा है, अंतर केवल इनकी प्रकृति एवं प्रक्रिया में है। अन्य परीक्षाओं की तरह यदि अभ्यर्थी इस परीक्षा की प्रकृति के अनुरूप उचित एवं गतिशील रणनीति बनाकर तैयारी करे तो उसकी सफलता की संभावना बढ़ जाती है। ध्यान रहे, अभ्यर्थियों की क्षमताओं में अंतर हो सकता है लेकिन उचित रणनीति एवं निरंतर अभ्यास से कोई लक्ष्य मुश्किल नहीं है।

    प्रश्न-2: कहते हैं कि सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने के लिये प्रतिदिन 16-18 घंटे अध्ययन करना आवश्यक है, क्या यह सत्य है?
    उत्तर: सिविल सेवा परीक्षा सामान्यत: तीन चरणों (प्रारंभिक, मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार) में आयोजित की जाती है, जिनमें प्रत्येक चरण की प्रकृति एवं रणनीति अलग-अलग होती हैं। ऐसे में यह कहना कि इस परीक्षा में सफल होने के लिये प्रतिदिन 16-18 घंटे अध्ययन करना आवश्यक है, पूर्णत: सही नहीं है। सफलता, पढ़ाई के घंटों के अलावा अन्य पहलुओं पर भी निर्भर करती है। अभ्यर्थियों की क्षमताओं में अंतर होना स्वाभाविक है, हो सकता है किसी विषय को कोई अभ्यर्थी जल्दी समझ ले और कोई देर में, फिर भी अगर कोई अभ्यर्थी कुशल मार्गदर्शन में नियमित रूप से 8 घंटे पढ़ाई करता है तो उसके सफल होने की संभावना बढ़ जाती है।

    प्रश्न-3: मैं कुछ व्यक्तिगत कारणों से दिल्ली नहीं जा सकता हूँ। कुछ लोग कहते हैं कि इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिये दिल्ली में इसकी कोचिंग करनी आवश्यक है, क्या यह सत्य है?
    उत्तर: जी नहीं, यह पूर्णत: सही नहीं है। विगत वर्षों के परीक्षा परिणामों को देखें तो कई ऐसे अभ्यर्थी इस परीक्षा में उच्च पदों पर चयनित हुए हैं, जिन्होंने घर पर ही स्वाध्याय किया। उचित एवं गतिशील रणनीति, स्तरीय अध्ययन सामग्री, जागरूकता, ईमानदारीपूर्वक किया गया प्रयास इत्यादि सफलता की कुंजी हैं। कोचिंग संस्थान आपको एक दिशा-निर्देश देते हैं जिस पर अंततः आपको ही चलना होता है। वर्तमान में कई प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थानों के नोट्स बाज़ार में उपलब्ध हैं जिनका अध्ययन किया जा सकता है। ‘दृष्टि’ संस्था इस बात से भली-भाँति अवगत है कि किसी गाँव/शहर में रहकर सिविल सेवा में जाने का सपना पाले कई अभ्यर्थी उचित दिशा-निर्देशन एवं सटीक सामग्री के अभाव में अधूरी तैयारी तक सीमित रहने को विवश होते हैं। वे आर्थिक, पारिवारिक, व्यावसायिक आदि कारणों से कोचिंग कक्षा कार्यक्रम से नहीं जुड़ पाते हैं। इसके अतिरिक्त, बाज़ार में बड़ी मात्रा में मौजूद स्तरहीन पाठ्य सामग्रियाँ भी इन अभ्यर्थियों को भटकाव के पथ पर ले जाती हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए ‘दृष्टि’ ने “दूरस्थ शिक्षा कार्यक्रम” (डी.एल.पी.) के तहत सिविल सेवा परीक्षा प्रारूप का अनुकरण कर सामान्य अध्ययन (प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा), सीसैट (प्रारंभिक परीक्षा), हिन्दी साहित्य तथा दर्शनशास्त्र (वैकल्पिक विषय) की अतुलनीय पाठ्य-सामग्री तैयार की है। ‘दृष्टि डी.एल.पी.’ का मूल दृष्टिकोण सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे उन अभ्यर्थियों तक सिविल सेवा से जुड़ी उपयुक्त एवं समुचित अध्ययन सामग्री की सुगम पहुँच बनाना है जो किसी कारणवश कोचिंग संस्था के स्तर पर मार्गदर्शन लेने में असमर्थ हैं।

    प्रश्न-4: कुछ लोग कहते हैं कि यह परीक्षा एक बड़े महासागर के समान है और इसमें प्रश्न पाठ्यक्रम से बाहर से भी पूछे जाते हैं। वे यह भी कहते हैं कि इसमें प्रश्न उन स्रोतों से पूछे जाते हैं जो सामान्यतः अभ्यर्थियों की पहुँच से बाहर होते हैं, क्या यह सत्य है?
    उत्तर: जी नहीं, यह बिल्कुल गलत है। यूपीएससी अपने पाठ्यक्रम पर दृढ़ है। सामान्य अध्ययन के कुछ प्रश्नपत्रों के कुछ शीर्षकों के उभयनिष्ठ (Common) होने के कारण सामान्यत: अभ्यर्थियों में यह भ्रम उत्पन्न होता है कि कुछ प्रश्न पाठ्यक्रम से बाहर पूछे गए हैं जबकि वे किसी-न-किसी शीर्षक से संबंधित रहते हैं। आपको इस प्रकार की भ्रामक बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिये। यूपीएससी का उद्देश्य योग्य अभ्यर्थियों का चयन करना है न कि अभ्यर्थियों से अनावश्यक प्रश्न पूछकर उन्हें परेशान करना।

    प्रश्न-5: लाखों अभ्यर्थी इस परीक्षा में भाग लेते हैं जबकि कुछ मेधावी अभ्यर्थी ही आईएएस बनते हैं। इस प्रश्न को लेकर मेरे मन में भय उत्पन्न हो रहा है, कृपया उचित मार्गदर्शन करें ?
    उत्तर: आपको भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है, यद्यपि इस परीक्षा के लिये लाखों अभ्यर्थी आवेदन करते हैं और इस परीक्षा में सम्मिलित होते हैं, परन्तु वास्तविक प्रतिस्पर्द्धा केवल 8-10 हज़ार गंभीर अभ्यर्थियों के बीच ही होती है। ये वे अभ्यर्थी होते हैं जो व्यवस्थित ढंग से और लगातार अध्ययन करते हैं और इस परीक्षा में सफल होते हैं। यदि आप भी ऐसा ही करते हैं तो आप भी उन सभी में से एक हो सकते हैं। तैयारी आरंभ करने से पूर्व आपको भयभीत नहीं होना है। आपको इस दौड़ में शामिल होना चाहिये तथा इसे जीतने के लिये कड़ी मेहनत करनी चाहिये।

    प्रश्न-6: कुछ लोग कहते हैं कि इस परीक्षा को पास करने के लिये भाग्य की ज़रूरत है, क्या यह सत्य है ?
    उत्तर: यदि आप भाग्य को मानते हैं तो स्पष्ट रूप से इस बात को समझ लें कि इस परीक्षा को पास करने में भाग्य का योगदान मात्र 1% और आपके परिश्रम का 99% है। आप अपने हाथों से सफलता के 99% अंश को न गवाएँ। यदि आप ईमानदारी से परिश्रम करेंगे तो भाग्य आपका साथ अवश्य देगा। ध्यान रहे, ‘ईश्वर उन्हीं की सहायता करता है जो अपनी सहायता स्वयं करते हैं’।

    प्रश्न-7: वैकल्पिक विषयों का चयन कैसे करें? कुछ लोगों का मानना है कि ऐसे विषय का चयन करना चाहिये जिसका पाठ्यक्रम अन्य विषयों की तुलना में छोटा हो और जो सामान्य अध्ययन में भी मदद करता हो, क्या यह सत्य है ?
    उत्तर: उपयुक्त वैकल्पिक विषय का चयन ही वह निर्णय है जिस पर किसी उम्मीदवार की सफलता का सबसे ज़्यादा दारोमदार होता है। विषय चयन का असली आधार सिर्फ यही है कि वह विषय आपके माध्यम में कितना ‘ स्कोरिंग’ है? विषय छोटा है या बड़ा, वह सामान्य अध्ययन में मदद करता है या नहीं, ये सभी आधार भ्रामक हैं। अगर विषय छोटा भी हो और सामान्य अध्ययन में मदद भी करता हो किंतु दूसरे विषय की तुलना में 50 अंक कम दिलवाता हो तो उसे चुनना निश्चित तौर पर घातक है। भूलें नहीं, आपका चयन अंततः आपके अंकों से ही होता है, इधर-उधर के तर्कों से नहीं। इस संबंध में विस्तार से समझने के लिये “’कैसे करें वैकल्पिक विषय का चयन’” शीर्षक को पढ़ें|

    प्रश्न-8: वैकल्पिक विषयों के चयन में माध्यम का क्या प्रभाव पड़ता है? कुछ लोगों का मानना है कि हिंदी माध्यम की तुलना में अंग्रेज़ी माध्यम के अभ्यर्थी ज़्यादा अंक प्राप्त करते हैं, क्या यह सत्य है?
    उत्तर: जी नहीं, यह पूर्णत: सही नहीं है। किसी विषय में अच्छे अंक प्राप्त करना उम्मीदवार की उस विषय में रुचि, उसकी व्यापक समझ, स्तरीय पाठ्य सामग्री की उपलब्धता, अच्छी लेखन शैली एवं समय प्रबंधन इत्यादि पर निर्भर करता है। अभ्यर्थी को उसी विषय का चयन वैकल्पिक विषय के रूप में करना चाहिये जिसमें वह सहज हो। हिंदी माध्यम के अभ्यर्थी उन्हीं विषयों या प्रश्नपत्रों में अच्छे अंक (यानी अंग्रेज़ी माध्यम के गंभीर उम्मीदवारों के बराबर या उनसे अधिक अंक) प्राप्त कर सकते हैं जिनमें तकनीकी शब्दावली का प्रयोग कम या नहीं के बराबर होता हो, अद्यतन जानकारियों की अधिक अपेक्षा न रहती हो और जिन विषयों पर पुस्तकें और परीक्षक हिंदी में सहजता से उपलब्ध हों।

    प्रश्न-9: कुछ लोग कहते हैं कि आईएएस की नियुक्ति में भ्रष्टाचार होता है, क्या यह सत्य है ?
    उत्तर: यह आरोप पूर्णतः गलत है। यह पूरी परीक्षा इतनी निष्पक्ष है कि आप इस पर आँख बंद करके विश्वास कर सकते हैं। परीक्षा के संचालन के तरीके में खामी हो सकती है लेकिन सिविल सेवा अधिकारियों की नियुक्ति में भ्रष्टाचार नहीं होता है। इनकी नियुक्तियाँ निष्पक्ष होती हैं। आप इस पर विश्वास कर सकते हैं।

    UPSC Exam Pattern of the UPSC Civil Services IAS Mains Examination

    The Mains Examination is a written Examination. It consists of 9 Papers out of which 2 are Qualifying in nature namely Paper A and Paper B; remaining 7 papers which are namely Paper I to Paper VII which are based on Ranking. The Questions will beavailable in Hindi as well as English in the Question Papers.

    S.No. Name of the Paper. Name of the Subject. Marks.
    1. Paper-A. Modern Indian Language. (Qualifying Paper). 300.
    2. Paper-B. English (Qualifying Paper). 300.
    3. Paper-I. Essay. 250.
    4. Paper-II. General studies-I. 250.
    5. Paper-III. General studies-II. 250.
    6. Paper-IV. General studies-III. 250.
    7. Paper-V. General studies-IV. 250.
    8. Paper-VI. Optional Subject (Paper-1). 250.
    9. Paper-VII. Optional Subject (Paper-2). 250.
    Sub-Total. 1750.    
    Interview. 275.
    Total. 2025.

    The Final Ranking of the candidates: This is done based on the marks obtained in the Mains and the Interview.

    • UPSC Syllabus
      UPSC Syllabus for Prelims The preliminary examination of UPSC is for screening purpose only. It is also known as CSAT. The marks obtained in the UPSC prelims examination amount to a qualification to take the UPSC Main examination and will not be counted for determining a candidate's final order of merit. Syllabus of Paper I (200 marks) Duration : 2 hours
      1. Current events of national and international importance
      2. History of India and Indian National Movement
      3. Indian and World Geography - Physical, Social, Economic Geography of India and the World
      4. Indian Polity and Governance - Constitution, Political System, Panchayati Raj, Public Policy, Rights Issues, etc
      5. Economic and Social Development - Sustainable Development, Poverty, Inclusion, Demographics, Social Sector initiatives, etc
      6. General issues on Environmental Ecology, Bio-diversity and Climate Change - that do not require subject specialization General Science
      Syllabus for Paper II-(200 marks) Duration: 2 hours
      1. Comprehension
      2. Interpersonal skills including communication skills;
      3. Logical reasoning and analytical ability
      4. Decision-making and problem solving
      5. General mental ability
      6. Basic numeracy (numbers and their relations, orders of magnitude, etc.) (Class X level), Data interpretation (charts, graphs, tables, data sufficiency etc. - Class X level)

      UPSC Syllabus for Mains

      The Main examination of UPSC is designed to test a candidate's academic expertise and ability to present his/her knowledge in a consistent manner. The UPSC Mains exam intends to assess the overall intellectual traits and understanding of concept by the candidates.

      Syllabus of the Written Examination: The standard of the paper in General English will be such as may be expected of a Science Graduate. The papers on geological subjects (Geology, Geophysics, Chemistry & Hydrogeology) will be approximate of the MSc degree standard of an Indian University and questions will generally be set to test the candidate’s grasp of the fundamentals in each subject. General English Paper: Candidate will be required to write a short Essay in English. Other questions will be designed to test their understanding of English and workmanlike use of words.

      Paper I - Modern Indian language - 300 Marks

      Qualifying nature: Marks not counted, Passing mandatory

      • Comprehension of given passages
      • Precis Writing
      • Usage and Vocabulary
      • Short Essay
      • Translation from English to the Indian language and vice-versa

      Note 1: The Papers on Indian Languages and English will be of Matriculation or equivalent standard and will be of qualifying nature only. The marks obtained in these papers will not be counted for ranking.

      Note 2: The candidates will have to answer the English and Indian Languages papers in English and the respective Indian language (except where translation is involved).

      Paper II - English - 300 marks

      Qualifying nature: Marks not counted, passing mandatory

      The aim of the paper is to test the candidates' ability to read and understand serious discursive prose, and to express his ideas clearly and correctly, in English and Indian Language concerned.

      The pattern of questions would be broadly as follows:-

      • Comprehension of given passages 
      • Precis Writing
      • Usage and Vocabulary
      • Short Essay
      Paper III - Essay - 250 Marks
      • To be written in the medium or language of the candidate's choice
      • Candidates will be required to write an essay on a specific topic
      • The choice of subjects will be given
      • They will be expected to keep closely to the subject of the essay to arrange their ideas in orderly fashion, and to write concisely
      • Credit will be given for effective and exact expression
      Paper IV - General Studies - 250 Marks

      (Indian Heritage and Culture, History and Geography of the World and Society)

      • Indian culture will cover the salient aspects of Art Forms, Literature and Architecture from ancient to modern times.
      • Modern Indian history from about the middle of the eighteenth century until the present- significant events, personalities, issues
      • The Freedom Struggle - its various stages and important contributors /contributions from different parts of the country
      • Post-independence consolidation and reorganization within the countryHistory of the world will include events from 18th century such as industrial revolution, world wars, redrawal of national boundaries, colonization, decolonization, political philosophies like communism, capitalism, socialism etc.- their forms and effect on the society 
      • Salient features of Indian Society, Diversity of India
      • Role of women and women's organization, population and associated issues, poverty and developmental issues, urbanization, their problems and their remedies 
      • Effects of globalization on Indian society
      • Social empowerment, communalism, regionalism & secularism
      • Salient features of world's physical geography
      • Distribution of key natural resources across the world (including South Asia and the Indian sub-continent); factors responsible for the location of primary, secondary, and tertiary sector industries in various parts of the world (including India)

      Important Geophysical phenomena such as earthquakes, Tsunami, Volcanic activity, cyclone etc., geographical features and their location- changes in critical geographical features (including water-bodies and ice-caps) and in flora and fauna and the effects of such changes.

      Paper V - General Studies II - 250 Marks

      (Governance, Constitution, Polity, Social Justice and International relations)

      • Indian Constitution- historical underpinnings, evolution, features, amendments, significant provisions and basic structure.
      • Functions and responsibilities of the Union and the States, issues and challenges pertaining to the federal structure, devolution of powers and finances up to local levels and challenges therein.
      • Separation of powers between various organs dispute redressal mechanisms and institutions.
      • Comparison of the Indian constitutional scheme with that of other countries
      • Parliament and State Legislatures - structure, functioning, conduct of business, powers & privileges and issues arising out of these 
      • Structure, organization and functioning of the Executive and the Judiciary Ministries and Departments of the Government; pressure groups and formal/informal associations and their role in the Polity 
      • Salient features of the Representation of People's Act 
      • Appointment to various Constitutional posts, powers, functions and responsibilities of various Constitutional Bodies
      • Statutory, regulatory and various quasi-judicial bodies 
      • Government policies and interventions for development in various sectors and issues arising out of their design and implementation
      • Development processes and the development industry the role of NGOs, SHGs, various groups and associations, donors, charities, institutional and other stakeholders 
      • Welfare schemes for vulnerable sections of the population by the Centre and States and the performance of these schemes; mechanisms, laws, institutions and 
      • Bodies constituted for the protection and betterment of these vulnerable sections
      • Issues relating to development and management of Social Sector/Services relating to Health, Education, Human Resources 
      • Issues relating to poverty and hunger 
      • Important aspects of governance, transparency and accountability, e-governance- applications, models, successes, limitations, and potential; citizens charters, transparency & accountability and institutional and other measures 
      • Role of civil services in a democracy 
      • India and its neighborhood- relations
      • Bilateral, regional and global groupings and agreements involving India and/or affecting India's interests
      • Effect of policies and politics of developed and developing countries on India's interests, Indian dupscpora.
      • Important International institutions, agencies and fora, their structure, mandate
      Paper VI - General Studies I & II - 250 Marks

      (Technology, Economic Development, Bio-diversity, Environment, Security and Disaster Management)

      • Development, Bio diversity, Environment, Security and Disaster Management.
      • Indian Economy and issues relating to planning, mobilization of resources, growth, development and employment.
      • Inclusive growth and issues arising from it.
      • Government Budgeting.
      • Major crops cropping patterns in various parts of the country, different types of irrigation and irrigation systems storage, transport and marketing of agricultural produce and issues and related constraints; e-technology in the aid of farmers
      • Issues related to direct and indirect farm subsidies and minimum support prices; Public Distribution System objectives, functioning, limitations, revamping; issues of buffer stocks and food security; Technology missions;economics of animal-rearing.
      • Food processing and related industries in India- scope and significance, location, upstream and downstream requirements, supply chain management.
      • Land reforms in India.
      • Effects of liberalization on the economy, changes in industrial policy and their effects on industrial growth.
      • Infrastructure: Energy, Ports, Roads, Airports, Railways etc.
      • Investment models.
      • Science and Technology- developments and their applications and effects in everyday life Achievements of Indians in science & technology;indigenization of technology and developing new technology
      • Awareness in the fields of IT, Space, Computers, robotics, nano-technology, bio-technology and issues relating to intellectual property rights.
      • Conservation, environmental pollution and degradation, environmental impact assessment
      • Disaster and disaster management.
      • Linkages between development and spread of extremism.
      • Role of external state and non-state actors in creating challenges to internal security.
      • Challenges to internal security through communication networks, role of media and social networking sites in internal security challenges, basics of cyber security; money-laundering and its prevention
      • Security challenges and their management in border areas; linkages of organized crime with terrorism
      • Various Security forces and agencies and their mandate
      Paper VII - General Studies IV - 250 Marks

      (Ethics, Integrity and Aptitude)

      • This paper will include questions to test the candidates' attitude and approach to issues relating to integrity, probity in public life and his problem solving approach to various issues and conflicts faced by him in dealing with society. Questions may utilise the case study approach to determine these aspects. The following broad areas will be covered.
      • Ethics and Human Interface: Essence, determinants and consequences of Ethics in human actions; dimensions of ethics; ethics in private and public relationships.
      • Human Values - lessons from the lives and teachings of great leaders, reformers and administrators; role of family, society and educational institutions in inculcating values.
      • Attitude: content, structure, function; its influence and relation with thought and behaviour; moral and political attitudes; social influence and persuasion.
      • Aptitude and foundational values for Civil Service , integrity, impartiality and non-partisanship, objectivity, dedication to public service, empathy, tolerance and compassion towards the weaker-sections.
      • Emotional intelligence-concepts, and their utilities and application in administration and governance.
      • Contributions of moral thinkers and philosophers from India and world.
      • Public/Civil service values and Ethics in Public administration: Status and problems; ethical concerns and dilemmas in government and private institutions; laws, rules, regulations and conscience as sources of ethical guidance; accountability and ethical governance; strengthening of ethical and moral values in governance;ethical issues in international relations and funding; corporate governance.
      • Probity in Governance: Concept of public service; Philosophical basis of governance and probity; Information sharing and transparency in government, Right to Information, Codes of Ethics, Codes of Conduct, Citizen's
      • Charters, Work culture, Quality of service delivery, Utilization of public funds, challenges of corruption
      • Case Studies on above issues.
      Paper VIII - Optional Subject - Paper I - 250 Marks
      • Candidates may choose any ONE optional subject from amongst the list of subjects given below.
      Paper XI - Optional Subject - Paper II -250 Marks
      • Candidates may choose any ONE optional subject from amongst the list of subjects given below.

      Interview/Personality Test - 275 Marks

      Candidate can give preference of the language in which they may like to be interviewed. UPSC will make arrangement for the translators.

    • UPSC Pre and Mains Paper Free Download
      State Service Exam - UPSC 2018
      UPSC - Civil Services (Preliminary) Examination Paper -1 || Paper-2
      Civil Services (Main) Examination Paper -1 || Paper-2 || Paper-3 || Paper-4
      State Service Exam - UPSC 2017
      UPSC - Civil Services (Preliminary) Examination Paper -1 || Paper-2
      Civil Services (Main) Examination Paper -1 || Paper-2 || Paper-3 || Paper-4 |
      State Service Exam - UPSC 2016
      UPSC - Civil Services (Preliminary) Examination Paper -1 || Paper-2
      Civil Services (Main) Examination Paper -1 || Paper-2 || Paper-3 || Paper-4
    • UPSC Cutoff - Civil Services Examination, 2017 – minimum qualifying marks

      In the Civil Services Examination 2017, the minimum qualifying standards/marks secured by the last recommended candidate in various categories at various stages are as under:-

      Exam General OBC SC ST PH-1 PH-2 PH-3
      CS(Prelim)* 105.34 102.66 88.66 88.66 85.34 61.34 40.00
      CS(Main)# 809 770 756 749 734 745 578
      CS(Final) 1006 968 944 939 923 948 830

      *Cut off marks on the basis of GS Paper-I only. GS Paper-II was of qualifying nature with 33% marks as per Rule-15 of Civil Services Examination, 2017.

      # Subject to 10% marks in each of the seven competitive papers i.e. Essay, GS-I, GS-II, GS-III, GS-IV, Optional-I and Optional-II.

    f

    Follow us on Social Media

    India's Best Way to find Best Coaching Classes to Achieve your Goal